गैर संक्रामक कारणों से होने वाला हेपेटाइटिस: हेपेटाइटिस से क्या अन्य परेशानियां हो सकती हैं? लिवर खराब होने के लक्षण – liver problem ke lakshan (Liver Disease Symptoms) 1. Liver Kharab hone ke Lakshan (Symptoms) Agar kisi bimari ke lakshan malum ho to uska ilaj aur roktham ke upay karna aasan hota hai. Liver cancer ke lakshan (Liver cancer ke lakshan) Liver cancer janleva hota hai. Pet me Sujan ke karan Bloated stomach swelling in hindi Aanto ki sujan in hindi -Swelling in stomach - pet me sujan ke lakshan. 2. Pet me ganth hona. As of Saturday, Wednesday, October 14, 2020 we currently have product IN STOCK and ship within 24 hours of purchase. Bile Duct Cancer Symptoms: Pitta Nali Ke Cancer Ke Lakshan. Agar inme se koi bhi lakshan aapko dikhe to bilkul bhi laaparwahi na kare aur test karaye. : Liver me Sujan in Hindi. ... (Liver Problem in Hindi – Sujan ke Karan in Hindi) लिवर की खराबी के कारण पेट पर सूजन नजर आती है, … AND, they're very contagious! हेपेटाइटिस होने पर कौन से लक्षण होने लगते हैं? हेपेटाइटिस चाहे किसी भी कारण से हुआ हो उससे विकसित होने वाले लक्षण व संकेत एक जैसे ही होते हैं, लेकिन हेपेटाइटिस के लक्षण हर व्यक्ति के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं और समय के साथ-साथ बदल भी सकते हैं। इस रोग में होने वाले कुछ सबसे सामान्य लक्षण और संकेत निम्न हो सकते हैं: क्रोनिक (दीर्घकालिक) हेपेटाइटिस में अक्सर तब तक किसी प्रकार के लक्षण महसूस नहीं होते जब तक मरीज का लिवर पूरी तरह से काम करना बंद नहीं कर देता। इस स्थिति को लिवर खराब होना (Liver failure) भी कहा जाता है।, यदि हेपेटाइटिस गंभीर रूप से हो जाता है तो इससे पेट में द्रव जमा होने लगता है और मानसिक रूप से भ्रम होने जैसी समस्याएं होने लगती हैं। (और पढ़ें - लिवर रोग के लक्षण). हेपेटाइटिस का इलाज हेपेटाइटिस के प्रकार और उसकी गंभीरता के आधार पर किया जाता है।, हेपेटाइटिस ए और ई से ग्रस्त ज्यादातर लोग कुछ हफ्तों के बाद अपने आप ठीक होने लगते हैं।, हेपेटाइटिस ए के लिए कोई विशेष इलाज उपलब्ध नहीं है। इसके इलाज के दौरान डॉक्टर मरीज को शराब और अन्य ड्रग्स आदि से पूरी तरह से परहेज करने की सलाह देते हैं। हेपेटाइटिस ए से ग्रस्त ज्यादातर लोग बिना किसी परेशानी के ठीक हो जाते हैं।, यदि आपको पता है कि आप हेपेटाइटिस बी वायरस के संपर्क में आ चुके हैं और लेकिन आपको यह याद नहीं है कि आपको टीका लगा हुआ है या नहीं तो ऐसे में तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। यदि इम्युनोग्लोबुलिन (Immunoglobulin) का इंजेक्शन वायरस के संपर्क में आने के 12 घंटे के भीतर दे दिया जाए तो हेपेटाइटिस बी को बढ़ने से रोका जा सकता है।. Jinhein liver cirrhosis hota hai unhein jaundice hota hai. जाने-माने डॉक्टरों द्वारा लिखे गए लेखों को पढ़ने के लिए myUpchar पर लॉगिन करें. यदि आपको निम्न लक्षण महसूस हो रहे हैं तो डॉक्टर को दिखा लेना चाहिए: हेपेटाइटिस का परीक्षण करने के दौरान, डॉक्टर सबसे पहले आपकी पिछली मेडिकल स्थिति के बारे में आपसे पूछेंगे, जिसकी मदद से वे हेपेटाइटिस के लिए संभावित जोखिम कारकों को निर्धारित करते हैं।, हेपेटाइटिस की जांच के दौरान शारीरिक परीक्षण किया जाता है। यदि आपके लिवर का आकार बढ़ गया है या लिवर के क्षेत्र को स्पर्श करने से दर्द महसूस हो रहा है, तो शारीरिक परीक्षण की मदद से इस स्थिति का पता लगाया जा सकता है। कुछ लोगों में क्रॉनिक हेपेटाइटिस होता है, जो धीरे-धीरे लिवर को क्षतिग्रस्त करता है। ऐसे में कुछ सालों बाद लिवर पूरी तरह से काम करना बंद कर देता है।. 10. 1. Liver kharab hone ke lakshan aur upay in hindi: Kisi rog ki shuruaat me agar uske symptoms ki pehchan ho jaye to samasya badhne se pahle uska ilaj kiya ja sakta hai. Liver Cancer Ke Lakshan Bataye?? Liver par sujan ke lakshan Bile Duct Cancer Symptoms: Iss Bimari Ke Mukhya Lakshan. Pairon mein sujan aa sakti hai. शरीर में जिस स्थान पर लिवर होता हैं, वहाँ दर्द होना। 2. Pitta nali ke cancer se grasit marijo mai kai prakar ke lakshan dekhne ko milte hai. हेपेटाइटिस एक ऐसा रोग है, जिसमें लिवर में सूजन व लालिमा आ जाती है, इस रोग को सामान्य भाषा में लिवर में सूजन भी कहा जाता है। लिवर शरीर में सबसे बड़े आकार का अंग होता है। यह भोजन पचाने, ऊर्जा को एकत्रित करने और विषाक्त पदार्थों को शरीर के बाहर निकालने में मदद करता है।, कई प्रकार के रोग व अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं जैसे दवाएं, शराब, केमिकल व अन्य स्व - प्रतिरक्षित रोग आदि, लिवर में सूजन और जलन पैदा कर सकते हैं । हेपेटाइटिस से ग्रस्त कुछ लोगों में किसी प्रकार के लक्षण विकसित नहीं होते और कुछ लोगों को बुखार, मतली और उल्टी, पेट में दर्द और त्वचा व आंखों का रंग पीला पड़ जाना आदि जैसे लक्षण महसूस होने लगते हैं। यदि हेपेटाइटिस लंबे समय तक रहता है, इससे लिवर मे स्कार ऊतक पैदा होना, लिवर का काम करना बंद कर देना या लिवर कैंसर जैसे रोग हो सकते हैं।, इस रोग का परीक्षण करने के लिए डॉक्टर आपके लक्षणों की जांच करते हैं, आपसे आपकी पुरानी मेडिकल स्थिति के बारे में पूछते हैं और आपके खून की जांच करते हैं। परीक्षण के दौरान सीरम बिलीरुबिन टेस्ट, लिवर बायोप्सी (लिवर के मांस से छोटा सा टुकड़ा सेंपल के लिए निकालना) और अल्ट्रासाउंड करने की भी आवश्यकता पड़ सकती है।, शराब छोड़कर एवं सुरक्षित सेक्स के तरीके अपना कर तथा यात्रा के दौरान नियमित रूप हाथ धो कर हेपेटाइटिस से बचाव किया जा सकता है। इसके साथ ही समय पर टीकाकरण किया जाना भी बेहद जरूरी है।, इलाज के प्रकार का चयन आपके हेपेटाइटिस रोग के प्रकार के अनुसार किया जाता है। हेपेटाइटिस के उपचार के दौरान मरीज़ को खूब आराम करने, पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पीने और अच्छा पोषण प्राप्त करने की सलाह दी जाती है। हेपेटाइटिस B और हेपेटाइटिस C का इलाज एंटीवायरल दवाओं के साथ किया जाता है।, लिवर में सूजन, जलन और लालिमा पैदा करने वाली स्थिति को हेपेटाइटिस कहा जाता है। हेपेटाइटिस आमतौर पर लिवर में संक्रमण के परिणामस्वरूप या फिर अत्यधिक मात्रा में शराब पीने के कारण होता है।, हेपेटाइटिस के कई प्रकार होते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं, हेपेटाइटिस ए, बी और सी इनमें से सबसे आम प्रकार के होते हैं।. Lambe samay tak kabj ki shikayat rehna ya fir lambe samay tak diarrhea (dast) ki samasya rahe to ye pet ke cancer ke symptoms ho sakte hai. जाने-माने डॉक्टरों द्वारा लिखे गए लेखों को पढ़ने के लिए myUpchar पर लॉगिन करें. Skin kaali padna, bewajah sawlapan aana aur tvacha ka pila padna bhi cancer hone ke lakshan hai. Sujan Ka desi Ilaj ke liye agar sharir Ke kisi khas Jaga par sujan agayee ho to haldi aur chuna barabar ke wajan Mila kar sujan wali Jaga par lagaye is Se sujan Khatam ho jati he ye sujan Ka asan desi Ilaj he. AiDs ke 20 Lakshan | एड्स के 20 लक्षण 1. Peat mein paani aa sakta hai. You need relief! japan halal food spice iwakura city. Liver problem ke lakshan and solution, liver home treatment in Hindi, strong liver solution in Hindi. Fav-store specialize in supplying special featured herbal medecines, developed to improve your life and makes better your health. पीलिया तथा त्वचा और आंखों का पीला पड़ जाना । मूत्र का रंग गहरा पीला या हरा हो जाना । अत्यधिक थकान। Pet mein sujan aana. Jinka sugar control nahi rehta unko bhi liver cirrhosis ho sakta hai. लीवर में सूजन के लक्षण : Liver me Sujan ke Lakshan. Is ka asar aankho par bhi hota hai. Blood cancer me aksar bukhar ke lakshan dikhte hai. Nakli dawao ke sevan se. Peshaab ka rang badlna. 4. हेपेटाइटिस का परीक्षण करने के लिए निम्न प्रकार के टेस्ट किये जा सकते हैं: लिवर में सूजन (हेपेटाइटिस) का इलाज कैसे किया जाता है? Pachan tantar mein kharabi. by Sehat Gyan. आपके डॉक्टर लिवर रोग का निदान एक स्वास्थ्य इतिहास और संपूर्ण शारीरिक परीक्षण से शुरू कर सकते हैं। उसके बाद निम्नलिखित परीक्षण किए जा सकते हैं -, प्रत्येक प्रकार के लिवर रोग का अपना विशिष्ट उपचार होता है। उदाहरण के लिए -, जिनके लिवर विफल हो गए हैं, उनके लिए लिवर का प्रत्यारोपण अंतिम विकल्प होता है।, लिवर की समस्याओं की जटिलताएं उसके कारण पर निर्भर करती हैं। अनुपचारित लिवर की बीमारी लिवर की विफलता का कारण बन सकती है जो कि एक जानलेवा स्थिति बन सकती है।, [Disease] के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।. Kidney me sujan - Wartrol Genital Wart Relief Wartrol. Motiyabind ke lakshano ko pehchanne ke liye yaha padhiye Glaucoma Symptoms in Hindi. We present a 60 day full money back guarantee. लिवर कैंसर के लक्षण बताये #5 Answers, Listen to Expert Answers on Vokal - India’s Largest Question & Answers Platform in 11 Indian Languages. लिवर एक अंग है जिसका आकार छोटी फुटबॉल जितना होता है और यह आपके पेट के दाहिनी ओर रिब पिंजरे के नीचे होता है। भोजन को पचाने और शरीर के विषाक्त पदार्थों को मुक्त करने के लिए लिवर आवश्यक है।, लिवर की बीमारी आनुवांशिक हो सकती है या यह विभिन्न कारकों के कारण हो सकती है जैसे वायरस संक्रमण या अत्यधिक शराब पीना। लिवर की क्षति के कारण मोटापा भी हो सकता है। समय के साथ, लिवर की क्षति के कारण इस पर घाव आ सकते हैं, जिसे चिकित्सीय भाषा में सिरोसिस (cirrhosis) कहते हैं। ये एक जानलेवा समस्या है।, लिवर रोग के मुख्य प्रकार निम्नलिखित हैं -, लिवर रोग के कई कारण होते हैं, जो कि निम्नलिखित हैं -, लिवर रोग के जोखिम को बढ़ाने वाले कारक निम्नलिखित हैं -, उपचार के लिए लिवर के नुक्सान की सीमा और कारण जानना महत्वपूर्ण होता है। Chootha common karan hai motapa. Kyuki iss cancer ke shururat lakshano ka asani se pata nahi lag pata. We provides Herbal health and beauty products made in USA. जानिए लिवर रोग (बीमारी) के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, दवा और परहेज के तरीकों के बारे में | Jane Liver Disease Ke Karan, Lakshan, ilaj, Dawa Aur Upchar Hindi Me Aanto ki sujan in hindi -Swelling in stomach – pet me sujan ke lakshan . Kidney stone kai trha ke hota h, major kiḍney stone char tarha k hotey h. Calcium Stone Jyadatar kidney stone calcium hotey h, calcium oxilate k form may.hamarey khan pan ki kai fruits or vegitable may oxilate mojud rehta h.par agar ye amount increase hota h to wo calcium stone ki risk ko baada sakta h गर्मी के दिनों में त्वचा और सौंदर्य रक्षा के उपाय – Garmiyon Mein Sundarta ke Tips in Hindi; रक्तपित्त रोग का आयुर्वेदिक उपचार – Raktapitta in Hindi 3. Ab iske mukhye lakshan kya hain? Ugh! Bacho Ke sharir main sujan 4,5 adad peesi Kali mircho mein makhan butter ki ek takiya Mila kar khane Se sujan Khatam ho jati hay. Liver Ki Garmi Ke Lakshan Kya Hain Aur Uska Ilaj Kaise Karen? जोखिम भरे काम न करें - ऐसे कुछ काम हैं जिनसे लिवर रोग होने का खतरा बढ़ता है, इन्हें न करें: यदि आप अवैध नशीली दवाओं का इस्तेमाल करते हैं तो सहायता प्राप्त करें और ड्रग्स को इंजेक्ट करने के लिए उपयोग की गई सुइयों को शेयर न करें। (और पढ़ें -, यदि आपको टैटू करवाना है या नाक/ कान / शरीर का कोई अन्य अंग छिदवाना है, तो दुकान का चयन करते समय स्वच्छता और सुरक्षा के बारे में सोचें।, टीकाकरण करवाएं - यदि आपको हेपेटाइटिस से संक्रमित होने का खतरा है या यदि आप पहले हेपेटाइटिस वायरस के किसी भी रूप से संक्रमित हुए हैं, तो हेपेटाइटिस ए और हेपेटाइटिस बी के टीके के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।, दवाओं का उपयोग समझदारी से करें - दवाएं तब ही लें जब आवश्यक हो और केवल बताई गई खुराक में ही लें। दवाओं और शराब को साथ न लें। हर्बल सप्लीमेंट्स या अन्य दवाओं को साथ लेने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।, अन्य लोगों के रक्त और शरीर के तरल पदार्थ के साथ संपर्क से बचें - हेपेटाइटिस वायरस को फैलने से रोकने से अन्य लोगों के रक्त और शरीर के तरल पदार्थ के साथ संपर्क से बचें।, अपनी त्वचा की रक्षा करें - कीटनाशक और अन्य जहरीले रसायनों का इस्तेमाल करते समय दस्ताने, लंबी आस्तीन, टोपी और मुखौटा पहनें। (और पढ़ें -, स्वस्थ वजन बनाए रखें - मोटापे से गैर-अल्कोहोलिक फैटी लिवर रोग हो सकता है। (और पढ़ें -, हेपेटाइटिस ए में शरीर को पर्याप्त पानी प्रदान करने के लिए सहायक देखभाल की आवश्यकता होती है, जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण को ठीक करती है।, पित्ताशय की पथरी वाले रोगियों के उपचार के लिए पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए सर्जरी कि आवश्यकता हो सकती है।, अन्य बीमारियों को नियंत्रित और कम करने के लिए दीर्घावधिक चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता हो सकती है।, सिरोसिस और लिवर रोग के अंत के चरण वाले रोगियों के लिए अवशोषित प्रोटीन की मात्रा को नियंत्रित करने के लिए दवाओं की आवश्यकता हो सकती है।. लिवर की गर्मी के लक्षण क्या हैं और उसका इलाज कैसे करें? क्रोनिक हेपेटाइटिस लगातार 20 सालों तक ऐसा कोई भी लक्षण या संकेत दिखाए बिना रह सकता है जो लिवर की क्षति का संकेत देते हैं, जैसे लिवर कैंसर या लिवर सिरोसिस आदि ये लक्षण मरीज की मृत्यु का कारण भी बन सकते हैं।, हेपेटाइटिस बी के कारण गुर्दे संबंधी समस्याएं भी होने लगती हैं। संक्रमित वयस्कों में बच्चों के मुकाबले किडनी खराब होने के जोखिम अधिक होते हैं।, [Disease] के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।, अस्वीकरण: इस साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।. Liver par sujan ke lakshan Bile Duct Cancer Symptoms: Iss Bimari Ke Mukhya Lakshan. They told you those horrible lumps in your "private parts" are genital warts. Jaise ki … Liver kharab hone par liver ki garmi, fatty liver, liver cirrhosis, liver me sujan aur liver kamjor hona jesi problem hoti hai. Sene me adhikatar pain rhana. किडनी खराब होने के 12 संकेत, know all the symptoms which can lead to kidney disease in hindi. 11. 1. #3 Answers, Listen to Expert Answers on Vokal - India’s Largest Question & Answers Platform in 11 Indian Languages. भारत में कोविड-19 के रिकवर मरीजों में स्पाइन इन्फेक्शन और फुंसी होने के मामले सामने आए, जानें क्या कहा डॉक्टरों ने, मासिक धर्म में होने वाली क्रैम्पिंग से राहत दे सकती है भांग से बनी दवा: केस स्टडी, क्रोन रोग के लिए विकसित नए मेथड ने परीक्षण में दिए सकारात्मक परिणाम, भारत में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की पुष्टि, छह लोगों में नए म्यूटेशन के साथ मिला सार्स-सीओवी-2, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना (और पढ़ें -, पेट के आस-पास के क्षेत्र में दर्द, सूजन या पेट में फुलाव महसूस होना (और पढ़ें -, सीधे हेपेटाइटिस पर हमला करने वाले कुछ प्रकार के वायरस जिनको हेपेटाइटिस वायरस कहा जाता है।, हेपेटाइटिस ए फैलाने वाला वायरस आमतौर पर संक्रमित व्यक्ति के मल में पाया जाता है यह स्वस्थ व्यक्तियों में दूषित पानी पीने या दूषित भोजन खाने से फैलता है। कुछ प्रकार के असुरक्षित सेक्स के तरीके भी हेपेटाइटिस ए का कारण बन सकते हैं। (और पढ़ें -, हेपेटाइटिस बी फैलाने वाले वायरस आमतौर पर संक्रमित खून, वीर्य व अन्य शारीरिक द्रवों के संपर्क में आने से फैलते हैं। हेपेटाइटिस बी के वायरस से संक्रमित मां से जन्म लेने वाले शिशु को भी यह संक्रमण अपनी चपेट में ले लेता है। इसके अलावा यदि परिवार का कोई सदस्य हेपेटाइटिस बी वायरस से संक्रमित है, तो उनसे भी छोटे शिशुओं में हेपेटाइटिस बी फैल सकता है। इसके अलावा दूषित खून या खून के तत्व (, हेपेटाइटिस सी वायरस ज्यादातर संक्रमित खून के संपर्क में आने से फैलता है। दूषित खून या खून के तत्व चढ़ाने या किसी रोग का इलाज करने के दौरान इंजेक्शन की दूषित सुई लगाने या नशीले पदार्थों के इंजेक्शन लगाने के कारण भी हेपेटाइटिस सी वायरस फैल जाता है। शारीरिक संबंध बनाने के दौरान भी हेपेटाइटिस सी वायरस फैलना संभव है, हालांकि इसकी संभावनाएं अपेक्षाकृत कम होती हैं।, हेपेटाइटिस ई वायरस ज्यादातर दूषित पानी व भोजन खाने से फैलता है।, लिवर में सामान्य रूप से रक्त की आपूर्ति ना होने के कारण लिवर क्षतिग्रस्त होना, लिवर में पित्तरस (Bile) के सामान्य प्रवाह में रुकावट होने के कारण लिवर क्षतिग्रस्त होना (और पढ़ें -, नशीले पदार्थों का सेवन करने वाले लोग जो एक दूसरे के साथ इंजेक्शन की सुई शेयर कर लेते हैं, उनमें हेपेटाइटिस ए और सी विकसित होने के जोखिम बढ़ जाते हैं। इसके अलावा जो लोग किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाते हैं उनमें भी हेपेटाइटिस होने की आशंका काफी बढ़ जाती है।, नाक या कान छिदवाने या फिर टैटू बनवाने से भी हेपेटाइटिस के जोखिम अत्यधिक बढ़ जाते हैं, क्योंकि इनमें इस्तेमाल की गई सुई पूरी तरह से रोगाणुरहित नहीं होती है।, जिन लोगों के एक से अधिक यौन साथी हैं। (और पढ़ें -, जो लोग इंजेक्शन के द्वारा ड्रग्स लेते हैं।, प्राथमिक चिकित्सा और आपातकालीन चिकित्सा में काम करने वाले, अस्पताल में काम करने वाले, दांतों के डॉक्टर और पुलिस कर्मचारियों आदि कि लिए हेपेटाइटिस वायरस के संपर्क में आने को जोखिम अधिक होते हैं।, किडनी के रोग जिनमें हीमोडायलिसिस की आवश्यकता पड़ती है।, अलग-अलग जगह से खून या खून के अन्य तत्व चढ़ाना।, जिन लोगों में हेपेटाइटिस ए और बी विकसित होने के अधिक जोखिम हैं, उनके लिए हेपेटाइटिस का टीकाकरण उपलब्ध है। अस्पताल व अन्य स्वास्थ्य विभागों में काम करने वाले लोगों में हेपेटाइटिस विकसित होने के अधिक जोखिम होते हैं।, बाहरी खाना ना खाएं (जैसे स्ट्रीट फूड और जंक फूड आदि), टॉयलेट का इस्तेमाल करने के बाद अपने हाथ अच्छे से धोने चाहिए।, यदि आप किसी संक्रमित व्यक्ति या उसके खून, मल या फिर अन्य शारीरिक द्रव के संपर्क में आते हैं तो आपको अपने हाथों को अच्छे से धो लेना चाहिए।, दूषित या अशुद्ध भोजन व पानी आदि नहीं पीना चाहिए, अपनी सब्जियों को खुद अच्छे पानी में धोएं और फिर छील लें, अपने टूथब्रश और रेजर किसी के साथ शेयर ना करें, सेक्स करने के दौरान कंडोम का इस्तेमाल करें, अपने यौन साथी की पिछली सेक्सुअल स्थिति के बारे में जानें। यदि आपको लगता है कि आपका यौन साथी संक्रमित है तो जल्द से जल्द उनको टेस्ट करवा लेना चाहिए।, लिवर क्षतिग्रस्त होना या लिवर का आकार बढ़ना, सीरम अल्कालीन फॉसफेट (Serum alkaline phosphatase), अलानीन अमीनोट्रांसफरस (Alanine Aminotransferase), एस्पर्टेट अमीनोट्रांसफरस (Aspartate AminoTransferase), ये टेस्ट यह संकेत देते हैं कि आपका लिवर कितने अच्छे से काम कर पा रहा है और यदि आपका लिवर क्षतिग्रस्त हो गया है, तो इन टेस्टों की मदद से डॉक्टर को इस बारे में पता चल जाता है।, जब तक शरीर अपनी सारी ऊर्जा को वापस प्राप्त नहीं कर लेता तब तक रोजाना कि गतिविधियों को कम करें। जैसे ही आपको अच्छा महसूस होने लगे तो आप धीरे-धीरे अपनी रोजाना की गतिविधियां शुरू कर सकते हैं। हालांकि यदि आप बीमारी से उबरने के दौरान तुरंत ही अपनी रोजमर्रा की गतिविधियां शुरू कर देते हैं, तो आप फिर से बीमार पड़ सकते हैं।, हेल्थी खाना खाएं - भले ही ऐसे खाद्य पदार्थ आपको आकर्षक ना लगें, लेकिन अच्छा पोषण प्राप्त करने के लिए ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना जरूरी होता है।, कुछ मरीज़ों में क्रोनिक हेपेटाइटिस बी का उपचार “पेगीलेटेड इंटरफेरॉन-अल्फा” नामक दवा के (Pegylated interferon-alpha) साथ किया जाता है। इस इंजेक्शन को हर सप्ताह में एक बार लगातार छह महीने तक लगाया जाता है।, इलाज के लिए एंटीवायरल दवाएं जैसे लैमिवुडाइन (lamivudine), एडेफोविर (adefovir) और टेल्बिवुडिन (telbivudine) आदि का उपयोग किया जाता है। ये दवाएं लिवर में हो रही लगातार क्षति की गति को धीमा कर देती हैं।, यदि आपका लिवर गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गया है, तो ऐसे में लिवर प्रत्यारोपण ही एक मात्र विकल्प बचता है। लिवर प्रत्यारोपण के दौरान सर्जन आपके क्षतिग्रस्त लिवर को निकाल देते हैं और उसकी जगह पर नया और स्वस्थ लिवर प्रत्यारोपित कर देते हैं।, हेपेटाइटिस के दोनों रूपों (एक्युट और क्रोनिक) का इलाज करने के लिए एंटीवायरल दवाएं दी जाती हैं।, वर्तमान में, हेपेटाइटिस सी के लिए सबसे प्रभावी थेरेपी कुछ प्रकार की दवाओं का संयोजन है, जिसमें पेजिलेटेड इंटरफेरॉन (Pegylated iterferon) और रिबावायरिन (Ribavirin) शामिल हैं। पेजिलेटेड इंटरफेरॉन को हर हफ्ते इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है और रिबावायरिन को टेबलेट के रूप में दिया जाता है, एक दिन में इसकी दो टेबलेट दी जाती हैं।, हेपेटाइटिस सी के कारण जिन लोगों को सिरोसिस (लीवर में स्कार ऊतक विकसित हो जाना) या लीवर संबंधी अन्य कोई रोग हो गया है, तो उनको लीवर प्रत्यारोपण भी करवाना पड़ सकता है।, हेपेटाइटिस डी का इलाज करने के लिए इस समय किसी प्रकार की एंटीवायरल दवाएं नहीं हैं।, हेपेटाइटिस बी के खिलाफ होने वाला टीकाकरण करवाकर हेपेटाइटिस डी की रोकथाम की जा सकती है। क्योंकि हेपेटाइटिस बी का संक्रमण विकसित होने पर ही व्यक्ति हेपेटाइटिस डी की  चपेट में आता है।, वर्तमान में हेपेटाइटिस ई के उपचार के लिए कोई विशेष थेरेपी उपलब्ध नहीं है। आमतौर पर यह अपने आप ही ठीक होता है।, जिन लोगों को हेपेटाइटिस ई का संक्रमण होता है, उनको अक्सर पर्याप्त आराम करना, खूब मात्रा में तरल पदार्थ पीना, पर्याप्त मात्रा में पोषण प्राप्त करना और शराब का सेवन बंद करना आदि जैसे सुझाव दिये जाते हैं।, हालांकि अगर गर्भवती महिलाओं को हेपेटाइटिस ई हो गया है तो उनकी काफी बारीकी से देखभाल की जाती है।, हेपेटाइटिस को पैदा करने वाले कारण का इलाज करना भी बहुत जरूरी होता है।, शराब के कारण होने वाले हेपेटाइटिस का इलाज करने के लिए वे दवाएँ दी जाती हैं, जो लिवर की सूजन और जलन को कम करती हैं और लिवर के कार्यों में सुधार करती हैं।, इलाज शुरू होने के बाद जब आप ठीक हो रहे होते हैं, तो उस दौरान डॉक्टर कुछ, भोजन नली और पेट में रक्त वाहिकाओं का आकार बढ़ना (Varices) जिसके कारण खून बहने लग सकता है।, हेपेटिक एन्सेफैलोपैथी (Hepatic encephalopathy) - मस्तिष्क में विषाक्त पदार्थ बनना जिसके परिणामस्वरूप मानसिक कार्य कम हो जाते हैं और कोमा भी हो सकता है।.
Math Properties Worksheet Pdf, The Ordinary Lactic Acid 5 + Ha Benefits, Best Brush For Cream Blush, Laws Of The Church, Bihar Agriculture College, How To Teach Medical Students Effectively, How To Cook A Pre-cooked Ham With Pineapple,